कांग्रेस हाईकमान की G-23 नेताओं को सलाह, कहा- चुनावी राज्यों में पार्टी को करें मजबूत

Politics

नई दिल्ली : एक ओर पांच राज्यों में चुनाव की तारीखों का ऐलान हो गया है, तो वहीं दूसरी ओर कांग्रेस की अंदरुनी कलह फिर से सामने आने लगी है। शुक्रवार को कांग्रेस के नाराज नेताओं का गुट जम्मू पहुंचा। साथ ही शनिवार को शांति सम्मेलन में हिस्सा लिया। इस दौरान सभी नेताओं ने कांग्रेस हाईकमान पर इशारों ही इशारों में जमकर निशाना साधा। साथ ही सार्वजनिक मंच से साफ किया कि पार्टी कमजोर हो गई है। अब कांग्रेस हाईकमान ने भी इस सम्मेलन को लेकर बयान जारी किया है।

कांग्रेस ने कहा कि G-23 के नेता सम्मानजनक हैं, जिन पर पार्टी गर्व करती हैं। साथ ही उन्हें सलाह दी जाती है कि वो आने वाले चुनावों में भी अपना सर्वश्रेष्ठ योगदान दें। इसके अलावा चुनावी राज्यों में पार्टी को मजबूत करने के लिए अभियान चलाएं और वफादरी का प्रदर्शन करें। हालांकि चुनाव की तारीखों के ऐलान के बाद ही गुलाम नबी आजाद ने तुरंत प्रतिक्रिया दी थी। साथ ही कहा था कि कांग्रेस सभी राज्यों में मजबूती से चुनाव लड़ेगी और उसकी कोशिश ज्यादा से ज्यादा सीटें जीतने की होगी।

जम्मू में कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कपिल सिब्बल ने कहा कि सच्चाई ये है कि हम कांग्रेस पार्टी को कमजोर होते हुए देख रहे हैं। इस वजह से आज वो यहां पर इकट्ठा हुए हैं। हम पहले भी एक साथ इकट्ठा हुए थे और हमें एक साथ पार्टी को मजबूत करना है। गुलाम नबी आजाद पर सिब्बल ने कहा कि वो एक ऐसे नेता हैं जो हर राज्य के हर जिले में कांग्रेस की जमीनी हकीकत जानते हैं। हमें दुख हुआ जब हमें पता चला कि उन्हें संसद में जिम्मेदारियों से मुक्त किया जा रहा। साथ ही मैं ये नहीं समझ पा रहा कि कांग्रेस अपने अनुभव का उपयोग क्यों नहीं कर रही है।