18 राज्यों में फैला कोरोना का नया स्ट्रेन, करीब 200 मामले सामने आए

National

नई दिल्ली : देश के 18 राज्यों में कोरोना का नया स्ट्रेन फैल गया है। ये स्ट्रेन यूके, साउथ अफ्रीका और ब्राजील से आए हैं। इसके अब तक 194 मामले सामने आ चुके हैं। केद्र सरकार ने देश में बढ़ते मामलों को देखते हुए इन सभी 18 राज्यों की निगरानी शुरू कर दी है। नेशनल सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल ने इन राज्यों से नए स्ट्रेन से जुड़े मरीजों की जानकारी और उनके संपर्क में आने वाले लोगों के बारे में पूछा है।

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताया कि इन 194 लोगों में से 187 लोगों में यूके का वैरिएंट मिला है। 6 साउथ अफ्रीकन और एक ब्राजीलियन स्ट्रेन है। स्वास्थ्य मंत्रालय ने इन राज्यों को इंटरनेशनल पैसेंजर्स की मॉनिटरिंग बढ़ाने को भी कहा है। इनमें महाराष्ट्र, केरल, तेलंगाना, आंध्र प्रदेश, असम, पश्चिम बंगाल, तमिलनाडु, पंजाब जैसे राज्य शामिल हैं।

दो दिन वैक्सीनेशन पर रोक
देशभर में अगले दो दिन यानी 27 और 28 फरवरी को वैक्सीनेशन पर रोक लगी रहेगी। यह जानकारी शुक्रवार को केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने दी। बताया कि इन दो दिनों में Co-Win मोबाइल ऐप को आम लोगों के लिए अपडेट किया जाएगा। इसी मोबाइल ऐप के जरिए आम लोग वैक्सीनेशन के लिए अपना रजिस्ट्रेशन करा सकेंगे। अभी तक इस ऐप के जरिए केवल हेल्थ केयर और फ्रंट लाइन वर्कर्स का रजिस्ट्रेशन हो रहा था। इस ऐप पर वैक्सीन लगवाने वाले सभी लोगों का पूरा डेटा मौजूद होता है। ऐप के जरिए लोगों को सर्टिफिकेट भी दिया जा रहा हैं।

1 मार्च से आम लोगों को भी लगाई जाएगी वैक्सीन
देश में कोरोना वैक्सीनेशन का दूसरा फेज 1 मार्च से शुरू होगा। 10 हजार सरकारी केंद्रों और 20 हजार निजी अस्पतालों में टीका लगाया जाएगा। इसमें 45 साल से ऊपर बीमार लोगों और 60 साल से ऊपर के सभी लोगों का वैक्सीनेशन होगा। अगर इस एज ग्रुप के लोग सरकारी केंद्रों में जाते हैं तो उनके लिए टीका मुफ्त होगा, लेकिन निजी अस्पतालों में इसके लिए उन्हें पैसा देना होगा। देश में अब तक 1.30 करोड़ लोगों को वैक्सीन का डोज दिया जा चुका है।

24 घंटे में 16 हजार से ज्यादा नए मरीज मिले
गुरुवार को देश में 16 हजार 562 लोग कोरोना संक्रमित पाए गए। 12 हजार 203 लोग रिकवर हुए और 118 की मौत हो गई। अब तक 1 करोड़ 10 लाख 63 हजार से ज्यादा लोग संक्रमण की चपेट में आ चुके हैं। इनमें 1 करोड़ 7 लाख 48 हजार से ज्यादा लोग ठीक हो चुके हैं। 1 लाख 56 हजार 861 मरीज ऐसे हैं जिनकी मौत हो गई। 1 लाख 52 हजार 849 मरीजों का अभी इलाज चल रहा है।

कोरोना अपडेट्स

गृह मंत्रालय ने कोरोना की पुरानी गाइडलाइन को ही 31 मार्च तक लागू रखने का फैसला लिया है। इसके तहत कंटेनमेंट जोन में निगरानी रखी जाएगी। भीड़ नहीं जुट सकती है। कोरोना संक्रमित के संपर्क में आने वालों को क्वारैंटाइन में रहना होगा समेत कई प्वाइंट्स शामिल हैं। गृह मंत्रालय ने सभी राज्यों को वैक्सीनेशन बढ़ाने के लिए भी कहा है।

महाराष्ट्र के बाद अब देश की राजधानी दिल्ली में भी कोरोना के मामले तेज होने लगे हैं। यहां पिछले तीन दिन से मरीजों की एक्टिव संख्या में बढ़ोतरी दर्ज की जा रही है। गुरुवार को राज्य में 220 लोग संक्रमित पाए गए और 188 लोग ठीक हुए। इस तरह 32 एक्टिव केस बढ़ गए।

राजस्थान में महाराष्ट्र और केरल से आने वालों को RT-PCR टेस्ट निगेटिव होने की रिपोर्ट दिखानी जरूरी होगी। इन दोनों राज्यों में कोरोना के नए स्ट्रेन के मरीज मिलने के बाद राजस्थान सरकार ने यह फैसला लिया है। वहीं स्कूली छात्रों में संक्रमण फैलने से भी सरकार की चिंता बढ़ गई है।

महाराष्ट्र के वाशिम जिले के एक ब्वॉयज हॉस्टल में एक साथ 229 स्टूडेंट्स और 3 स्टाफ कोरोना संक्रमित पाए गए हैं। इस हॉस्टल में अमरावती, नांदेड़, वाशिम, बुल्ढाना और अकोला के 327 स्टूडेंट्स रहते हैं। अब पूरे हॉस्टल को क्वारैंटाइन सेंटर में बदल दिया गया है। वाशिम वही जिला है जहां, दो दिन पहले राज्य के मंत्री संजय राठौड़ हजारों की भीड़ लेकर एक मंदिर में पहुंचे थे।

हर दिन मिलने वाले मरीजों के मामले में भारत एक बार फिर से दुनिया का चौथा सबसे संक्रमित देश हो गया है। एक हफ्ते पहले तक इस मामले में भारत टॉप-10 देशों की सूची से भी बाहर था, लेकिन मरीजों की रफ्तार बढ़ते ही ये चौथे नंबर पर पहुंच गया। यहां हर दिन 13 हजार से ज्यादा संक्रमित पाए जा रहे हैं।

बंगाल सरकार ने दूसरे राज्यों से आने वाले एयर पैसेंजर्स के लिए नई गाइडलाइन जारी की है। इसके मुताबिक, महाराष्ट्र, केरल, कर्नाटक और तेलंगाना से आने वाले लोगों के लिए निगेटिव RT-PCR रिपोर्ट लाना अनिवार्य होगा। यह रिपोर्ट फ्लाइट डिपार्चर से 72 घंटे से ज्यादा पहले की नहीं होनी चाहिए।

कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए महाराष्ट्र के लातूर में 27 और 28 फरवरी को जनता कर्फ्यू रहेगा। लातूर में 7 से 15 फरवरी के बीच कोरोना के 261 मामले रिकॉर्ड किए गए थे। वहीं पिछले एक हफ्ते में यहां 300 से ज्यादा मामले सामने आ चुके हैं। इसके बाद प्रशासन ने जनता कर्फ्यू का फैसला किया।