डीसी ने डाक्टरों से बैठक कर कोरोना मरीजों के इलाज पर किया मंथन

Rewari

  • एक्शन मोड में दिखे डीसी यशेन्द्र सिंह
  • मातिृका, कैप्टन नंदलाल अस्पताल, सिग्नस व वेदांता को नोटिस भेजकर 24 घंटे के भीतर मांगा जवाब
  • अस्पतालों द्वारा दी गई जानकारी व ऑडिट टीम रिपोर्ट में पाई गई अनियमितता

रेवाड़ी : जिला में कोरोना के हालात को काबू करने व प्रत्येक मरीज को जल्द से जल्द उचित उपचार मिले इसको ध्यान में रखते हुए डीसी यशेन्द्र सिंह ने गत देर रात तक जिला के कोविड मरीजों का इलाज कर रहे 21 अस्पतालों के डाक्टरों के साथ बैठक कर मंथन किया। जरूरतमंद मरीज को ऑक्सीजन की सप्लाई मिले तथा बैड की व्यवस्था हो इस पर विस्तार से चर्चा की गई। जिला में कोरोना संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए डीसी यशेन्द्र सिंह एक्शन मोड में दिखाई दिए। डीसी यशेन्द्र सिंह ने बैठक में कहा कि जरूरतमंद को ऑक्सीजन व बैड मिले तथा जो मरीज ठीक हैं उन्हें डिस्चार्ज किया जाए। यहां यह भी बता दें कि कुछ अस्पतालों में मेडिक्लेम के मरीजों को अस्पताल द्वारा लंबे समय तक रखा जा रहा है। जबकि वास्तव में कहानी कुछ और ही है।

डीसी यशेन्द्र सिंह ने अस्पतालों में ऑक्सीजन की जरूरत की अस्पताल वाईज समीक्षा की। अस्पतालों में ऑक्सीजन रिक्वायरमेंट जानकर डीसी ने बैठक में ही डिप्टी सिविल सर्जन डा. विजय प्रकाश व एमओ डा. सर्वजीत थापर को अस्पतालों में ऑक्सीजन का स्टेटस जानने के लिए भेजा। डाक्टरों की टीम ने ऑडिट करने पर अपनी रिपोर्ट में कहा कि अस्पताल जरूरत से ज्यादा ऑक्सीजन की डिमांड प्रशासन से करके पेनिक माहौल पैदा कर रहे थे।

मीटिंग में मातिृका अस्पताल रेवाड़ी ने बताया कि उनके अस्पताल में 5 मरीज हाई फ्लो ऑक्सीजन पर हैं जबकि निरीक्षण करने पर हाई फ्लो पर कोई मरीज नहीं मिला। अस्पताल ने बताया कि उनके यहां ऑक्सीजन पर 30 मरीज हैं जबकि जांच में 18 मरीज पाए गए तथा वेंटिलेटर पर 2 मरीज बताए गए जबकि ऑडिट करने पर एक मरीज पाया गया। 34 मरीज अस्पताल में भर्ती बताए गए जबकि ऑडिट के दौरान 31 मरीज मिले। बाईपेप पर 2 मरीज बताए गए जबकि एक ही मरीज बाईपेप पर भर्ती था।

इसके अलावा कैप्टन नंदलाल अस्पताल ने बताया कि उनके अस्पताल में 34 मरीज भर्ती हैं जबकि ऑडिट टीम द्वारा चैक किया गया तो 14 मरीज पाए गए। सभी 14 मरीज को ऑक्सीजन लगी हुई थी जबकि 5 नार्मल बैड पर थे जिनको दो लीटर प्रतिमिनट के हिसाब से ऑक्सीजन चल रही थी। 9 मरीज आईसीयू में भर्ती थे जबकि रिपोर्ट में शून्य मरीज दिखाए गए। इनमें से 8 मरीजों की ऑक्सीजन 2 लीटर प्रति मिनट चल रही थी। अस्पताल द्वारा वेंटिलेटर पर 2 मरीज दिखाए गए थे जबकि एक मरीज था और ऑक्सीजन के 30 बैड बताए गए जबकि 18 बैड ही ऑडिट में पाए गए।

इसके अलावा सिग्नस अस्पताल ने बताया कि उनके अस्पताल में 31 मरीज भर्ती हैं जबकि ऑडिट टीम द्वारा चैक किया गया तो 25 मरीज पाए गए। 4 मरीज आईसीयू में भर्ती थे जबकि रिपोर्ट में शून्य मरीज दिखाए गए। अस्पताल द्वारा वेंटिलेटर पर 2 मरीज दिखाए गए थे जबकि एक मरीज था।

इसके अलावा वेदांता अस्पताल ने बताया कि उनके अस्पताल में 27 मरीज भर्ती हैं जबकि ऑडिट टीम द्वारा चैक किया गया तो 31 मरीज पाए गए।

शहर के चार अस्पतालों को कारण बताओ नोटिस
सिविल सर्जन रेवाड़ी ने चार अस्पतालों नामत: मातिृका, कैप्टन नंदलाल अस्पताल, सिग्नस व वेदांता के डाक्टरों को कारण बताओ नोटिस जारी करके 24 घंटे के भीतर जवाब मांगा है कि उन्होंने प्रशासन को गुमराह करते हुए मरीजों की स्थिति व मरीजों के डाटा बारे गलत सूचना क्यों दी। उल्लेखनीय है कि 30 अप्रैल को अस्पतालों द्वारा मरीजों की स्थिति व मरीजों के डाटा से जो जानकारी उपलब्ध कराई थी उसमें ऑडिट टीम द्वारा एक मई को निरीक्षण करने पर भिन्नता पाई गई है जो कि महामारी के समय गंभीर लापरवाही है। बाकी अस्पतालों की ऑक्सीजन स्टेटेस जानने के लिए कमेटी गठित कर दी गई है जो यह चैक करेगी कि वास्तव में अस्पतालों में ऑक्सीजन की कितनी जरूरत व खपत है।