हरियाणा के सीएम अपने ही प्रदेश में सभा नहीं कर सकते, इस्तीफा दें : राकेश टिकैत

Yamuna Nagar

यमुनानगर : भाकियू नेता राकेश टिकैत बुधवार को यमुनानगर पहुंचे। उन्होंने कहा कि जब तक सरकार तीनों कानून वापस नहीं लेती तब तक किसान आंदोलन करेंगे। कानून वापसी के बाद आंदोलनरत किसान भी अपने घर वापसी करेंगे। राकेश टिकैत यमुनानगर के कलानौर में प्रेस वार्ता कर रहे थे। कलानौर हरियाणा यूपी बॉर्डर पर गांव है। यहां के बाद टिकैत हिमाचल प्रदेश के पोंटा साहिब में किसानों की सभा को संबोधित करने के लिए जाएंगे।

टिकैत ने कहा कि हरियाणा के सीएम अपने ही प्रदेश में सभा नहीं कर सकते। उन्होंने कहा सीएम को त्यागपत्र देना चाहिए। उन्होंने पंजाब से आने वाले किसानों के रास्ते में खाई को दी थी और किसानों पर लाठियां चलवाईं। उन्होंने कहा कि सरकार तीन कृषि सुधार कानूनों के बाद अब सीड बिल भी लाने की तैयारी में है। इसमें जुर्माना और सजा दोनों का प्रावधान है। इस बिल को भी रोकना होगा।

टिकैत ने कहा कि सरकार विदेश से दूध का कॉन्ट्रैक्ट कर यहां के किसानों को बर्बाद करना चाहती है। एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि यदि मैं भाजपा का आदमी होता तो मैं भाजपा के खिलाफ प्रदर्शन क्यों करता। मेरे साथ जो हैं, सभी किसान हैं। मैं भी किसान हूं। सभी लोग खेती करते हैं।

टिकैत ने धरनास्थल पर किसानों की कम होती किसानों की संख्या पर तर्क दिया। किसानों को मैसेज दिया है। गेहूं की फसल किसानों के पूरे साल की मेहनत है। उसे सहेजकर वापस आंदोलन में आने को कहा है। सरकार भी तो बाहर गई है। हमने भी किसानों को भेज दिया है। गेहूं काटने के बाद फिर किसान आंदोलन में शामिल होंगे। पश्चिम बंगाल में सरकार किसकी बनेगी, इस पर कुछ नहीं कह सकते। संयुक्त किसान मोर्चा में कोई फूट नहीं है। फूट की बातें सिर्फ अफवाहें हैं।

करनाल में सीएम के कार्यक्रम में हंगामे के मामले में बोले कि किसान चाहते नहीं थे कि मनोहरलाल आएं इसलिए विरोध हुआ। सबका विरोध इसीलिए हो रहा है कि, वे किसान हितैषी नहीं हैं। किसानों पर अत्याचार कर रहे हैं। लाल किले पर बवाल के लिए भी सरकार जिम्मेदार है। किसानों को सरकार व पुलिस वहां लेकर गई थी। यहां तक कह दिया था कि लाल किला सरकार की संपत्ति नहीं है। सरकार ने तो लाल किला बेच दिया।

हिमाचल में भी किसानों का शोषण हुआ
एक प्रदेश के सीएम ने तिरंगा उतारकर भगवा झंडा फहराया था, जो धारा उस पर लगती है, वही धारा इन पर भी लगा दो। कानून तो सबके लिए बराबर है। अब हिमाचल में जनसभा है। वहां 10 लाख किसान हैं, जिसमें से 6 लाख बागबानी करते हैं। वहां पर भी किसानों पर अत्याचार हो रहा है। किसानों को अपने साथ जोड़ना है। पहले जो कंपनी आई थी, उसने दो-तीन साल ज्यादा रेट में फसल खरीदी थी। मगर, अब वो अपनी मर्जी से फसल खरीद रही है। अब उस कंपनी का एकाधिकार हो गया है।