NCRB : प्रति दिन एक महिला होती है सोशल मीडिया पर साइबर क्राइम की शिकार

National

नई दिल्ली : राष्ट्रीय अपराध रिकॉर्ड ब्यूरो ने हाल ही में महिलाओं के प्रति हो रहे साइबर क्राइम की एक रिपोर्ट जारी की है। जारी इस डाटा में महाराष्ट्र में लगातार तीन साल तक महिलाओं के साथ होने वाले साइबर स्टाकिंग /धमकाने के सबसे अधिक 1,126 मामले दर्ज किए गए हैं। रिपोर्ट में कहा गया है कि महाराष्ट्र में हर दिन एक महिला के साथ साइबर क्राइम की घटना होती है।

रिपोर्ट के मुताबिक, महाराष्ट्र में 2017 से 2019 तक साइबर स्टॉकिंग और धमकाने के धमकाने 2,051 मामले दर्ज किए गए हैं, जो भारत में दर्ज किए गए सारे मामलों का एक तिहाई है। रिपोर्ट में बताया गया है कि महाराष्ट्र के बाद आंध्र प्रदेश 184 मामलों के साथ दूसरे स्थान पर है और हरियाणा 97 मामलों के साथ तीसरे स्थान पर है।

महाराष्ट्र महिलाओं के खिलाफ साइबर क्राइम वाले मामलों में दूसरे नंबर पर था। 2018 में महाराष्ट्र में 1,262 केस और 2019 में 1,503 मामले दर्ज किए गए थे। लेकिन इस साल महाराष्ट्र महिलाओं के खिलाफ साइबर अपराध 19 फीसदी बढ़े हैं।

कर्नाटक में बढ़े हैं साइबर क्राइम
कर्नाटक में महिलाओं के प्रति साइबर क्राइम में 50 प्रतिशत की बढ़ोतरी देखी गई है। कर्नाटक महिलाओं के खिलाफ साइबर क्राइम में नंबर एक पर है। यहां 2018 में 1,374 केस दर्ज किए गए थे। वहीं 2019 में 2,698 मामले दर्ज किए गए हैं।

साइबर क्राइम की सजा का क्या है रिकॉर्ड
एनसीआरबी ने रिपोर्ट में बताया है कि महाराष्ट्र में साइबर अपराधों में सजा होने की दर बहुत ही कम है। राज्य में साइबर क्राइम में 4 हजार 500 लोग गिरफ्तार किए गए लेकिन सजा सिर्फ 56 लोगों को हुई और वही 56 लोग बस जेल गए।

एनसीआरबी की रिपोर्ट पर महाराष्ट्र के पुलिस अधीक्षक बाल्सिंग राजपूत ने टाइम्स ऑफ इंडिया से कहा कि महिलाएं सीधे हमारी वेबसाइट Cybercrime.Gov.In पर जाकर केस दर्ज करा सकती हैं। उन्होंने महिलाओं से ऐसे मामलों में रिपोर्ट करने की सलाह दी है। उन्होंने कहा है कि महिलाएं अपने प्रति हो रहे साइबर क्राइम के प्रति जितना शिकायत करेंगी वह हमारे लिए अच्छा होगा।