मैन्युफैक्चरिंग को बढ़ावा देने के लिए PLI स्कीम को मिली मंजूरी: पीयूष गोयल

Politics

नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में बुधवार को केंद्रीय मंत्रिमंडल की बैठक हुई। केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर, पीयूष गोयल ने प्रेस वार्ता में कैबिनेट के फैसलों के बारे में जानकारी दी। केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल ने बताया, ‘कैबिनेट में आज PLI स्कीम को मंजूरी दी गई जो व्हाइट गुड्स यानि एयर कंडिशनरों और एलइडी लाइट्स के साथ हाई फ्रिक्वेंसी वाले सोलर पीवी मॉड्यूल्स के मैन्युफैक्चरिंग के लिए है।’ इस स्कीम के जरिए कंपनियों को भारत में अपनी यूनिट लगाने और एक्सपोर्ट करने पर विशेष रियायत व आर्थिक सहायता भी दी जाती है।

उन्होनें यह भी बताया कि सरकार द्वारा 13 PLI योजनाओं की अनुमति देते हुए 1.97 लाख करोड़ रुपये की बजट की व्यवस्था की गई है। यह योजनाएं निवेश आकर्षित करेगी, व ग्लोबल सप्लाई चैन में देश को अहम भूमिका दिलाएगी। केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में बताया कि देश में सोलर उपकरणों की मैन्युफैक्चरिंग को बढ़ाने के लिए अहम फैसला किया है। मैन्युफैक्चरिंग करने वाली कंपनियों को 4500 करोड़ रुपये इनसेंटिव के तौर पर देगी। केंद्रीय मंत्री ने बताया कि इससे नई नौकरियों के अवसर मिलेंगे। साथ ही, बिजली की कीमतें भी नियंत्रण में रहेंगी।

केंद्रीय मंत्री जावड़ेकर ने बताया की प्रधानमंत्री की अध्यक्षता में कैबिनेट बैठक हुई और इसमें सोलर पैनल, एलइडी लाइट व एयर कंडिशनर से जुड़े फैसले लिए गए। आज बैठक में एक जापान और भारत के बीच एमओयू को भी मंजूरी दी है। केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल ने बताया, ‘सात वर्षों में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भारत की उत्पादन की क्षमता व देश की अर्थव्यवस्था को विकसित करने पर काफी काम किया है।’ उन्होंने बताया कि हमारी सरकार का उद्देश्य है कि भारत इंटरनेशनल सप्लाई चेन का महत्वपूर्ण अंग बने। उन्होंने बताया, ‘ देश के 1 करोड़ युवक-युवतियों को रोजगार मिले। इसके लिए पहले तीन सेक्टरों में प्रोडक्शन लिंक्ड इंटेंशिव (PLI) लागू किए गए।’