राहत की खबर: को-वैक्सीन ट्रायल का फेस-1 का दूसरा पार्ट भी रहा कामयाब

Haryana Rohtak

  • काला पीलिया की दवाई के ट्रायल को लेकर मिली मंजूरी,जल्द शुरू होगा ट्रायल।
  • वॉलिंटियर्स पर किए गए ट्रायल के भी बेहतर नतीज़े, दवा की डोज के बाद सभी वॉलिंटियर्स स्वस्थ।

hindustan1st news,(devender sharma)रोहतक: 5 देशों में रिसर्च के बेहतर परिणामों के चलते पीजीआई को भी काला पीलिया के ट्रायल को मंजूरी मिल गई है, इसके लिए सरकार की ओर से 86 लाख रुपए भी मंजूर कर लिए गए गए है। अब कोविड-19 पेशेंट पर काला पीलिया की दवाई का ट्रायल किया जाएगा। इससे पहले विश्व के 5 देशों ने इसका ट्रायल किया है। जिसके बेहतर परिणाम सामने आए हैं। कोविड-19 वैक्सीन ट्रायल के लिए 13 मेडिकल संस्थानों में से एक संस्थान पीजीआईएमएस के वीसी ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर जानकारी दी। वही को-वैक्सीन के पहले चरण का ट्रायल समाप्त हो गया है जिसके बेहतर परिणाम आए है,सभी वॉलिंटियर्स स्वस्थ है।

कोविड-19 की वैक्सीन को लेकर रोहतक पीजीआई से राहत भरी खबर आई है,अब वैक्सीन के ट्रायल के साथ साथ काला पीलिया की दवाई को लेकर भी पीजीआई को मंजूरी मिल गई है,इसके लिए 86 लाख रुपए भी मंजूर किए गए है।अब कोविड-19 पेशेंट पर काला पीलिया की दवाई का ट्रायल होगा।इससे पहले विश्व के 5 देशों में काला पीलिया की दवाई का ट्रायल चला हुआ है जिसके सकारात्मक परिणाम आए है, इसी को आधार बनाकर अब पीजीआई में भी कोविड-19 पेशेंट पर काला पीलिया की दवाई का ट्रायल होगा।

वही दूसरी ओर पीजीआईएमएस के वीसी ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर जानकारी देते हुए कहा कि डिपार्टमेंट ऑफ बायोटेक्नोलॉजी ने कोविड-19 पेशेंट पर काला पीलिया की दवाई के ट्रायल की मंजूरी दे दी है इसके लिए 86 लाख रुपए भी मंजूर किए गए है।उन्होंने कहा कि कोविड-19 को लेकर वैक्सीन का ट्रायल लगातार जारी है और राहत की बात ये है कि प्रथम चरण समाप्त हो गया है जिसके सकारात्मक परिणाम आए है।उन्होंने कहा कि वालिंटियर पर इसका ट्रायल हुआ है और सभी वालिंटियर वैक्सीन के ट्रायल के बाद स्वस्थ है। गौरतलब है की पूरे देश मे 13 संस्थाओं को कोविड-19 वैक्सीन के ट्रायल के लिए चुना गया है जिसमे रोहतक की एकमात्र हेल्थ यूनिवर्सिटी भी शामिल है।