सच आया सामने: फर्जी अथॉरिटी लेटर देकर जारी कराया था EFT

Faridabad

hindustan1st news,फरीदाबाद : हरियाणा के फरीदाबाद जिले में हजरत निजामुद्दीन रेलवे स्टेशन पर पकड़े गए पलवल के नकली TTE को लेकर नया खुलासा हुआ है। नकली TTE मनीष ने असिस्टेंट कमर्शियल मैनेजर(ACM) अशोक कुमार के फर्जी हस्ताक्षर वाला अथॉरिटी लेटर लेकर पलवल के चीफ बुकिंग सुपरवाइजर (CBS) मीणा के पास जमा कराया था। वहां दबाव डालकर EFT (अतिरिक्त किराया वसूलने वाली रसीद) जारी करा लिया था।

GRP ने उसके घर से नकली मुहर और रेलवे के फर्जी कागजात बरामद किए हैं। खास बात ये है कि वह दिल्ली डिवीजन से जो अथॉरिटी लेटर लेकर आया था, उसमें तीन माह के लिए पलवल स्टेशन पर चेकिंग करने का अधिकार दिया गया था। इसी के बल पर वह GRP व RPF कर्मियों से भी उलझता रहता था।

बता दें कि पलवल के गांव खटैला निवासी नकली TTE मनीष पुत्र बिजेंद्र कुमार को चार दिन पहले निजामुद्दीन में पकड़ा गया था। इस मामले में पलवल के CBS केएल मीणा को सस्पेंड कर दिया गया है। इनका दोष सिर्फ इतना था कि उन्होंने आरोपी के द्वारा दिए गए अथॉरिटी लेटर पर EFT जारी कर दिया था। फर्जी अथॉरिटी लेटर पर ACM की मुहर लगी होने के कारण किसी ने उस पर संदेह भी नहीं किया। इसी का फायदा फर्जी TTE मनीष उठाता रहा।

फर्जी अथारिटी लेटर, जिस आधार पर नकली TTE को EFT जारी किया गया था।
फर्जी अथारिटी लेटर, जिस आधार पर नकली TTE को EFT जारी किया गया था।

11 जनवरी को पहली EFT जारी कराई थी

रेलवे सूत्रों ने बताया कि आरोपी ने नवंबर महीने में पलवल में अपनी ज्वॉइनिंग कराई थी। एक महीने तक वह पलवल से निजामुद्दीन तक जाकर रेल कर्मचारियों, पुलिसकर्मियों और यात्रियों के टिकट चेक करता रहा। 11 नवंबर को दबाव डालकर फर्जी अथॉरिटी लेटर के जरिए EFT जारी कराने में कामयाब रहा। कहा तो यहां तक जा रहा है कि फरीदाबाद सेक्शन के CMI ने भी इसकी अनदेखी की।

सस्पेंड किए गए CBS मीणा ने बताया कि वह EFT जारी नहीं कर रहे थे। लेकिन जब वह ACM का अथॉरिटी लेटर लेकर आ गया तो उन्होंने उस पर विश्वास करके EFT जारी कर दिया। लेकिन जब वह निजामुद्दीन जाकर चेकिंग करने लगा तो उन्हें संदेह हुआ। उन्होंने वहां के CTI को बताया और EFT जब्त करने को कहा था। इसके बाद ही फर्जी TTE पकड़ में आया।