महिला दिवस पर महिला विधायक चलाएंगी सदन, 5 महिलाएं करेंगी कार्यवाही संचालित

Panchkula

hindustan1st news,हरियाणा : विधानसभा के बजट सत्र के पहले दिन शुक्रवार को स्पीकर ज्ञानचंद गुप्ता ने महिलाओं के सम्मान में बड़ा फैसला लिया है। उन्होंने कहा कि 8 मार्च को महिला दिवस के दिन महिला विधायक ही सदन चलाएंगी। इसके लिए भाजपा विधायक सीमा त्रिखा व निर्मल रानी, कांग्रेस विधायक गीता भुक्कल व किरण चौधरी और जजपा विधायक नैना चौटाला का नाम कमेटी में शामिल किया है।

संभवत: यह देश का ऐसा पहला मामला है, जब एक विशेष दिन सदन की कार्यवाही का संचालन महिलाएं करेंगी। उस दिन स्पीकर सत्र की औपचारिक शुरुआत करेंगे। फिर बारी-बारी महिला विधायक उनकी कुर्सी पर बैठकर सदन चलाएंगी। स्पीकर ने शुरू में 4 महिलाओं के नामों की घोषणा की थी। किरण ने कांग्रेस की तरफ से सिर्फ एक नाम शामिल करने पर आपत्ति जताई।

इस पर स्पीकर ने उनका नाम भी शामिल किया। अभी कांग्रेस की 5, भाजपा की 3, जजपा की एक महिला विधायक है। जब स्पीकर से पूछा गया कि सभी 9 महिला विधायकों को मौका क्यों नहीं दिया तो उन्होंने कहा कि पैनल बढ़ा नहीं सकते। बाकी 4 को उस दिन पहले बोलने का मौका मिलेगा।

कृषि कानूनों को लेकर भेजा प्राइवेट मेंबर बिल रद्द, कांग्रेस का हंगामा

तीन कृषि कानूनों को लेकर भेजा गया प्राइवेट मेंबर बिल रद्द होने पर कांग्रेस ने विधानसभा में हंगामा किया। सीएम मनोहर लाल ने कहा, ‘एपीएमसी में धारा-4 कांग्रेस ने ही जोड़ी थी। कानूनों पर सुप्रीम कोर्ट का स्टे है। इसलिए कुछ नहीं कर सकते।’ स्पीकर ज्ञानचंद गुप्ता ने कहा, ‘कृषि कानूनों का मामला अभी सुप्रीम कोर्ट में है।

प्राइवेट मेंबर बिल में विपक्ष ने जो लिखकर दिया, उसमें यही था कि वे कानूनों में संशोधन चाहते हैं। यह काम केंद्र का ही है। इसलिए इसे रद्द किया गया है।’ वहीं, नेता प्रतिपक्ष भूपेंद्र सिंह हुड्‌डा ने कहा, ‘हम केंद्र के कानूनों में संशोधन नहीं चाहते। हम हरियाणा के एपीएमसी कानून में संशोधन चाहते हैं। इसके बावजूद प्राइवेट मेंबर बिल रद्द किया गया।’

राष्ट्रगान और राष्ट्रीय गीत के दौरान भी काली पट्टी बांधे रहे कांग्रेसी विधायक, विज बोले- ये अपमान है

कांग्रेस विधायकों ने हाईकोर्ट चौक से विधानसभा तक सरकार के खिलाफ नारेबाजी करते हुए पैदल मार्च किया। वे हाथों में काली पट्‌टी बांधे थे। सदन में जब राष्ट्रगान व राष्ट्रीय गीत हुआ, तब भी पट्‌टी बंधी थी। गृह मंत्री अनिल विज ने कहा कि यह राष्ट्रगान व राष्ट्रीय गीत का अपमान है। इस दौरान काली पट्‌टी हटानी चाहिए थी।

12 को बजट पेश करेंगे मुख्यमंत्री मनोहर लाल

सीएम मनोहर लाल वित्त मंत्री के नाते 12 मार्च को टैब से बजट पेश करेंगे। सत्र 18 मार्च तक चलेगा। 6-7 को अवकाश है। 8-9 को राज्यपाल के अभिभाषण पर चर्चा होगी। फिर सीएम जवाब देंगे। 10 को कई विधेयक पेश होंगे। 11 को महाशिवरात्रि है। 13 को शनिवार, 14 को रविवार का अवकाश है। 15 से 17 मार्च तक बजट पर चर्चा होगी। 17 को सीएम बजट को लेकर उठाए जाने वाले मुद्दों, सुझावों व मांगों पर जवाब देंगे।

बिल में लव जिहाद शब्द का जिक्र नहीं: विज

लव जिहाद शब्द पर डिप्टी सीएम दुष्यंत चौटाला के ऐतराज जताए जाने को लेकर गृह मंत्री अनिल ने सदन में कहा कि बिल में कहीं हिंदू या मुसलमान की बात नहीं है। यह बिल प्यार की आड़ में लालच व धोखा देकर या दबाव बनाकर धर्म परिवर्तन के खिलाफ लाया जा रहा है। इसमें कहीं भी लव जिहाद शब्द का जिक्र नहीं किया गया है। इसे हरियाणा फ्रीडम ऑफ रिलीजन एक्ट नाम दिया है। यह बिल इसी सत्र में लाया जाएगा।

मंजूरी: अविश्वास प्रस्ताव पर 10 मार्च को चर्चा के बाद कराई जाएगी वोटिंग

नेता प्रतिपक्ष भूपेंद्र सिंह हुड्‌डा ने 3 कृषि कानूनों के विरोध में सरकार के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव पेश करने की मांग रखी। स्पीकर ने कहा कि यह स्वीकार हो गया है। 10 मार्च को चर्चा के बाद वोटिंग होगी। इससे पहले 27 सितंबर 1995 को भजनलाल व 1999 में बंसीलाल सरकार के खिलाफ पूर्व सीएम ओपी चौटाला लेकर आए थे। दोनों बार प्रस्ताव गिर गए थे।

परख: सरकार को 55 विधायकों का साथ, अविश्वास प्रस्ताव से खतरा नहीं

अविश्वास प्रस्ताव के लिए 18 विधायकों की सहमति जरूरी है। कांग्रेस के 30 विधायक हैं। इसलिए प्रस्ताव रखे जाने में दिक्कत नहीं आएगी। अभी कुल 88 विधायक हैं। प्रस्ताव पास होने के लिए 45 विधायकों की जरूरत पड़ेगी। भाजपा के 40, जजपा के 10 विधायकों के साथ 5 निर्दलीयों का सरकार को समर्थन है। ऐसे में सरकार पर भी संकट नजर नहीं आ रहा।